Tag: Dhatu Rog Aur Ling Ki Kamjori Ka Ilaj Hindi Me

Dhat Rog Ke Liye Ramban Desi Ayurvedic Upchar

Dhat Rog Ke Liye Ramban Desi Ayurvedic Upchar

धात रोग के लिए रामबाण देसी आयुर्वेदिक उपचार धातु गिरना(शुक्रमेह)- अनैच्छिक रूप से वीर्य का स्वतः ही निकल जाना धातु गिरना कहलाता है, जिसे शुक्रमेह भी कहते हैं। इस समस्या में रोगी द्वारा मल-मूत्र के दौरान हल्का सा भी जोर लगाने पर वीर्य निकल जाता है। अगर धातु रोग के कारणों के बारे में बात …

+ Read More

Ayurved Se Karen Dhat Rog Ka Upchar आयुर्वेद से करें धात रोग का उपचार

Ayurved Se Karen Dhat Rog Ka Upchar आयुर्वेद से करें धात रोग का उपचार

धात रोग- बिना इच्छा के स्वतः वीर्यपात होने को धातु क्षय या वीर्य प्रमेह कहते हैं। मल-मूत्र करते समय अण्डे की सफेदी जैसा या लेसदार तरल आने लगता है। अतिशय भोग-विलास या हस्तमैथुन से जननेन्द्रिय की सहिष्णुता इतनी बढ़ जाती है कि तनिक-सी उत्तेजना से वीर्य निकल जाता है। धात रोग के कारण- धात रोग …

+ Read More

Ayurved Apnayen Aur Payen Dhatu Rog Se Chutkara आयुर्वेद अपनायें और पायें धातु रोग से छुटकारा

Ayurved Apnayen Aur Payen Dhatu Rog Se Chutkara आयुर्वेद अपनायें और पायें धातु रोग से छुटकारा

धात जाने की समस्या- बिना इच्छा के स्वयं वीर्यपात होने को धातु रोग या वीर्य प्रमेह कहते हैं। मल-मूत्र करते समय अंडे की सफेदी जैसा या सहिष्णुता इतनी बढ़ जाती है कि जरा सी उत्तेजना से वीर्य निकल जाता है। यह तीन प्रकार का होता है : 1. धातु आना 2. प्रोस्टेटोरिया(सफेद पानी आना) और …

+ Read More

Dhat Rog Ki Jankari Aur Shudh Ayurvedic Upchar धात रोग की जानकारी और शुद्ध आयुर्वेदिक उपचार

Dhat Rog Ki Jankari Aur Shudh Ayurvedic Upchar धात रोग की जानकारी और शुद्ध आयुर्वेदिक उपचार

धात रोग- धात रोग से मतलब है कि मूत्र त्याग के दौरान व्यक्ति के वीर्य का भी साथ निकल जाना। यानी धात गिरने की समस्या को ही, धातु रोग कहते हैं। धातु(धात) रोग की समस्या को शुक्रमेह के नाम से भी जाना जाता है। धात रोग की समस्या क्यों उत्पन्न होती है? जब कोई पुरूष …

+ Read More