Tag: Ayurved Se Karen Dhat Rog Ka Upchar

Ayurved Se Karen Dhat Rog Ka Upchar आयुर्वेद से करें धात रोग का उपचार

Ayurved Se Karen Dhat Rog Ka Upchar आयुर्वेद से करें धात रोग का उपचार

धात रोग- बिना इच्छा के स्वतः वीर्यपात होने को धातु क्षय या वीर्य प्रमेह कहते हैं। मल-मूत्र करते समय अण्डे की सफेदी जैसा या लेसदार तरल आने लगता है। अतिशय भोग-विलास या हस्तमैथुन से जननेन्द्रिय की सहिष्णुता इतनी बढ़ जाती है कि तनिक-सी उत्तेजना से वीर्य निकल जाता है। धात रोग के कारण- धात रोग …

+ Read More